E-Satyagraha

To Save the Democracy from Predatory Technological Implants.

More

Facebook and the Dangers to the Democracy हिंदी में पढ़ें

While facing questions on Russian meddling in the USA elections, Mark Zuckerberg claimed that they are ready to make Indian elections in 2019 fair. The arrogance by the owner of a foreign private corporation claiming any part of influence in deciding the governance of a sovereign nation with tens of thousands of years of evolved history has deep roots in the way Indians have allowed predatory technological implants like Facebook to affect our lives.

Deemed as a social media, Facebook is essentially a distortion in Social Media which has made possible the control of a predatory oligarchy with no morality at its very core to take over an independent mechanism.

The same mechanism of an independent, decentralized social-media deployed by leaders like Mahatma Gandhi, Lohia, Martin Luther King fighting massive incumbent political forces, or by the saints and prophets of their space and times spreading the good words of God for human enlightenment.

Today it seems like a very concerted effort to make sure there is no more Mahatma Gandhi’s possible, and if they somehow emerge, they never get the right support systems. People become weak and brittle enough to just give them a few likes and move on.

Facebook can be directly connected to many fault lines we see around us and can be exploited to target the nation’s sovereignty while weakening the people to rise and defend.


Below are a few.


The return of Demagogues and Cults.

 

Around 350 BCE or 2400 years ago Plato in his book Republic warned about the return of demagoguery

In Republic 8 (562b-569c) he provides a chilling account of how democracy can be subverted into tyranny by an opportunistic demagogue, rule by the people swiftly degenerating into manipulative leading of the people.


The demagogue gains power by democratic means, claiming to be a champion of ‘the people’ and making wild promises; in particular he offers intoxicating quantities of the neat spirit of independence.


Anyone who opposes the demagogue is labeled an ‘enemy of the people’ and exiled or killed. Such tactics naturally create genuine enemies, and the demagogue quickly acquires a large bodyguard, and eventually a private army.


External conflicts are also stirred up to keep the people in need of a strong leader. It is also in the demagogue’s interests to keep his supporters poor as well as fearful, and when they start to rebel, protesting that this is not why they voted him in, he attacks them too and the full-blooded tyrant is born.


Plato’s demagogues peddle fantasy and utterly disregard the facts. Of course, individual purported ‘facts’ can and should be questioned, but if we have contempt for the very notions of truth and fact, if we acquiesce in the current fashion for ‘post-fact’, then it will not just be the future of liberal democracy at stake, but ultimately the survival of all life on our planet.

Looking at the results in our current democracies, Facebook has enabled such practices and has created existential crises for the planet.

A cult or demagogue sits at its core of influencer marketing and validated with money generating some false numbers and indicators while making Facebook rich.

Political processes are subverted badly creating digital clones of the demagogue, subjugating any cadre which the essential loop of information was, building check and balance between a leader and public.

Facebook not only enables such practices but looking closely with historical evidence on how it operates, its built to promote such practices for private profits.


Mass Societal Degradation and loss of Spiritual Core.


Facebook, started as an innocent and free for all game of peeking into each other living windows, has since been blamed for increasing narcissism in the society, has broken many moral boundaries owing to its inbuilt psychological loops, influencer marketing tactics and promote worshiping of the self and any person larger than the self.  Where big money can buy self-validating likes and follows and gives enough automated means to run massive campaigns targeting a more and more vulnerable masses.


Degradation in Internet Technological principals.

The closed garden technique adopted by Facebook makes sure that its easy to run nefarious acts of mass subversions inside its systems by its partners and affiliates, and then vanish without a trace while making it very tough for any governmental, independent civil society oversight to make any proactive interventions.


Governments Losing its constituent and then its autonomy.

Allowing Facebook to operate within its boundaries has a tremendous impact on the autonomy of elected governments in maintaining civil order. With Facebook and WhatsApp inspired riots, mob killings, rumors, fake news are increasingly putting governments under stress. As seen in the USA, Africa, Sri Lanka, and India, untraceable parties can easily run campaigns to undermine any democratic institution, while making elected governments subservient to the Facebook’s whims to help to police, giving it more and more power and authority over its own people.


Remanence of Old Colonized world.

While India reeled under British, most natural and human resources estimated at a worth of $43 Trillion over 173 years of colonization. Got humiliated, left poor, divided, fighting, populace destitute and scrambling to survive in a confused atmosphere of a lost and forcefully forgotten advance civilization.

Is still trying to bounce back, finding her feet and gaining her rightful position in the world as a spiritual core, leading to a sustainable world.

Current onslaught on sovereign privacy and stealing of Indian personal recognizable data of common and influential citizens, be it politicians, movie and cultural influencers, spiritual leaders and campaigners, along with their behavior patterns, has a parallel in the way British operated with personal data of Princely estate kings and politicians alike.

This neo-colonization attempt on India, if combined with military technology of any foreign power- like space programs, drones, guided missiles, surgical operations, can put this entire nation of 1.35 Billion under instant forced colonization and return the Dark ages very quickly.


Loss of Economy and Oligarchic Practices.

Facebook and technologies coming from Silicon Valley USA have roots in surveillance, backed by giving away huge subsidies or zero pricing and spending a massive amount of money to gain public acceptance, they crush or buy out any competition to build their own monopolistic empires.

Giving away software for free has massive tax and revenue losses for the local governments, e.g. with 295 million users of Facebook in India if in a normal scenario, paying $100/Year for the services will amount to 29.5 Billion dollars in reported direct revenues. With a GST of 18%, Indian Government is losing $5.3 Billion in Tax revenue. This loss to public tax is funneled directly to Facebook coffers making it super rich and massively powerful. The money behind the arrogance of Zuckerberg claiming his control over Indian elections.

Loss of local technology backbone and home-grown entrepreneurship.

While government loses billions in tax dollars, there is no scope of any local entrepreneur helping its community with honestly-priced B2C technological solutions, now since technology is deemed a free commodity in the general customer’s mind.

Indian engineers are capable of building responsible technology systems, but the influence Silicon Valley predatory implants is such that it nips any such attempt in infancy.

Indian engineers and entrepreneurs are forced to align and help with facebook’s ideology of predatory practices subverting his/her own people for foreign private gains.

India is losing a generation of engineers and opportunities to build her own technological backbone.

Right now, we are pushing the reach of digital technology to the far nooks and corners of our land, but the full control is with foreign private entities or interested government agencies.


Technology created specifically to interfere with elections to help rich candidates.

Facebook is directly working with politicians since 2008 Obama’s elections as a standard practice. While they trap vulnerable billions under their psychological loops and give away their rights and vulnerability, they also help rich and well-funded politicians harness their user’s data directly or indirectly through their partners and affiliate.

Facebook created different contracts to help companies like Cambridge Analytica’s, and gave free accesses to its partners and favored companies over its user’s personal data for mass targeting.

As per Trump Campaign officials, they were able to target people with as much as 50,000-60,000 variations of the same ads to deeply penetrate and influence their consent to vote, and it was made possible by Facebook technology staff sitting in Trump Campaign offices and helping.

The same technique was deployed by IRA (Internet Research Agency of Russia) to target hundreds of millions of American citizens.

All this was made possible by the Facebook inherent design as a political campaigning machine, and its greed.


Loss of local News bureau and any format of honest Journalism.

Facebook has disturbed generations of journalists, leaving their local beats and relying more and more on creating clickbait news with entertainment and procrastination value but no significant use for the public good, or any effect of creating local check and balance with the administration. Facebook directly competes with local newspapers for advertisements forcing them to change their business practices to either compete or align with theirs.

Its no surprise that smaller newspapers are turning to yellow journalism or shutting shops and big ones are getting increasingly dependent on Facebook for their traffic, essentially losing their independent journalistic nature, while succumbing to sloppy practices which can be influenced by vested or foreign interests.


The loss to the local small business.

A small business doesn’t need Facebook to connect to its audience, Facebook is an implanted mechanism to do business favoring massive oligarchies run from the foreign lands and is disastrous for the Indian economy and local livelihoods. A small business selling a product is crushed by big business taking away its customer using the data and customer connections small business hands over to Facebook, which is then sold to big advertisement agencies which are accessible and affordable to these massive oligarchies only.

While Facebook hurts Indian and the world democracies to such a massive extent, its only claim to victory is exploiting few very basic weaknesses of general masses, prohibited in every moral code book ever came to existence.


Facebook and similar predatory practices by foreign implants can only be defeated from our lands when a common citizen comes forward and say – That’s enough! I’m Out!



E-Satyagraha - The tenets.


Before the upcoming elections, it's not just important to vote. But to vote over a well-informed understanding of the local candidate’s caliber. When you are choosing someone to take over your public lives for the next 5 years it's very important to spend 5 days doing some very basic research.


1.      Delete and stop using Facebook, Google, and Twitter for at least one month.

2.      Only listen to old music on television and radio. Don’t watch any star anchor, stop checking 24 hours news channel, and the newspapers. Only watch news bulletin for one hour to check any real news or announcement, or delegate this responsibility to an elder in the house.

3.      Total refrain from Cinema and Movies, only watch movies from before the 90s.

4.      Don’t go to any Rally or Railla done by any Star Campaigner or a mega-leader.


What you must do?


1.      Get a list of candidates from election commission, assign this task to a youngster in the community. Past it at a public location.

2.      Remove the candidate from the list who is found doing - Bike rally, Big and Loud campaigns, power shows.

3.      Check for the person who is active in the area for at least 5 years.

4.      Consider the person who is easy to reach out, and who cares about your time. Is organized and his public office is organized.

5.      Ask him/her a few questions. Why are you in politics? Can you list 5 local issues? Can you list 5 national issues? Can you list 5 Global issues with India in the center? What are your plans?

6.      Now sit with your relatives and friends in a fully offline mode, invite them over a tea at your home and discuss your findings. Decide for yourself and go vote.

Definitely vote, but only after you have fulfilled these 10 commandments of E-Satyagraha.


*Important Note- This research-based campaign is in its beta phase right now and our teams are still building it. The content on this website is open for public/academic preview and suggestions at this stage. Please feel free to submit any of your research, ideas, and suggestions which can strengthen or contribute positively the research, helping the democratic processes in India and around the world. We will launch this soon, stay tuned.


हिंदी में.

अमेरिकी चुनावों में रूस द्वारा बड़े पैमाने पर सीमा पार से हस्तक्षेप कर, नतीज़े प्रभावित करने के सवाल पर जब मार्क जखर्बर्ग से अमेरिकी सेनेट में पूछा गया तो इन्होने कहा, की बस देखते जाइये, अगले साल 2019 में भारत के चुनावों को हम कैसे निष्पक्ष करवाते हैं.

ऐसा दंभ किसी विदेशी निज़ी कंपनी द्वारा, हज़ारों सालों के इतिहास वाले देश के प्रजातांत्रिक तरीक़ों के सन्दर्भ में बोला जाना, किसी भी भारतीय के लिए अपनी फेसबुक द्वारा की गयी दुर्दशा बताने के लिए पर्याप्त है.

ये मौका हमने ही दिया है जब हमने प्रत्यारोपित तकनीक के एक भक्षक रूप को अपने बीच जगह बनाने और पनपने दिया, जिसने आज हमारे आस पास के जन जीवन को जकड़ रखा है.

आज आम जन में सोशल मीडिया के पर्यायवाची माने जाने वाले फेसबुक को अगर ध्यान से देखें तो ये असल में सोशल मीडिया में आयी एक विकृति है, जिसने एक स्वतंत्र और स्थानीय मीडिया को उठा कर एक बड़ी विदेशी शक्ति के हाथ में दे दिया है, जिसका मूल स्वरुप ही भ्रष्ट है.

सोशल मीडिया गांधी के समय भी था, जब उन्होंने लोकतंत्र की रक्षा के लिए अभियान चलाये थे, पैगम्बर साहब के समय भी था, जीसस क्राइस्ट के समय भी था, श्री राम, कृष्ण, वेद व्यास, विवेकानंद सबने उस समय की मज़बूत विक्रितिओं के खिलाफ़ बदलाव लाया था.

फेसबुक इसी स्वतंत्र सोशल मीडिया पर कुछ उपनिवेशवादी सोच रखने वाले बड़े लोगों का कब्ज़ा है, जिससे अगला गांधी ना पैदा हो सके, और अगर गलती से हो भी जाए तो उसकी दीनता के साथ लोग खड़े हो कर दो तीन सेल्फी खींचे और लाइक बटोर कर आगे बढ़ जाएँ.

फेसबुक को आज समाज में फ़ैली कई विकृतियों और सामाजिक जीवन में व्याप्त गिरावट से सीधे रूप से जोड़ा जा सकती है.

ये ऐसी विकृतियाँ हैं जिनका शोषण सीधे तौर पर भारत की संप्रभुता पर हमला करने के लिए किया जा सकता है, और स्थिति ऐसी बन चुकी है की, कमज़ोर हो चुकी जनता इसका प्रतिरोध करने में अक्षम रहे.


नीचे इन कुछ विकृतियों को विस्तार दिया गया है.


तानाशाही और चरम पंथ की वापसी

तकरीबन 2400 साल पहले प्लेटो ने अपनी पुस्तक रिपब्लिक में तानाशाही और चरमपंथ के बारे में चेतावनी दी है, और कहा है की.


प्रजातंत्र को एक अवसरवादी डेमोगोग ना सिर्फ नष्ट भ्रष्ट कर सकता है, बल्कि बड़ी आसानी से जनता “के” शासन को त्वरित जोड़ तोड़ द्वारा जनता “पर” शासन में बदल सकता है.

भले ही एक डेमोगोग “प्रजातान्त्रिक तरीकों” से कुर्सी हासिल करे, ख़ुद को मसीहा घोषित कर हवाई और लोकलुभावन वादे करे, ख़ासकर मति भ्रम कर देने वाली बातें जो स्वतंत्रता के अपने ही खुशनुमा पर्याय बना दे.

जो भी ऐसे डेमोगोग का विरोध करे उसे प्रजा का दुश्मन बता, निष्कासन या काल के घाट भेज दिया जाए. और इस तरह के तरीकों से जब दुश्मनों की संख्या बढे तब एक बड़ी निज़ी फौज़ आत्मरक्षा के लिए बना ली जाए.

ऐसा डेमोगोग दुसरे देशों से युद्ध भड़का जनता में अपनी मज़बूत राजा की ज़रुरत बनाये रखेगा. डेमोगोग की ज़रुरत अपने समर्थकों को डरा हुआ और विपन्न रखने की भी रहती है, जिससे जब कभी भी समर्थक विद्रोह करें तब उनको एक रक्त रंजित तानाशाह की तरह दबाया जाये.

प्लेटो का डेमोगोग फंतासी की दुनिया जनता को बेचता है, और सच्चाई का तिरस्कार करता है. एक समय ऐसा आता है जब आम जन में यथार्थ और सच की भावना के प्रति ही विद्रोह का भाव आ जाता है, ऐसे में समाज एक “पोस्ट फैक्ट” यानि एक समानांतर यथार्थ की दुनिया में चला जाता है, ऐसे में किसी भी तरह के प्रजातंत्र या उससे जुडी किसी भी तरह के सभ्य संवाद का कोई मतलब नहीं रह जाता, और पूरी सृष्टि का अस्तित्व ही संकट में आ जाता है.

आज हम अपने आस पास प्रजातंत्र या प्रजातान्त्रिक देशों का हाल देखें तो पता चलता है, किस तरह फेसबुक ने प्लेटो के डेमोगोग को शक्तिशाली बनाया है और इस परमाणु अस्त्रों, ग्लोबल वार्मिंग के युग में आज संसार का अस्तित्व ही ख़तरे में डाल दिया है.

फेसबुक का जो कारोबार है, उसके मूल में ही या डेमोगोग या इन्फ़्लुएन्सर बैठा हुआ है, जिसको ये अपने कुछ बिकाऊ फालतू के लाइक और फॉलो के आंकड़ों से सशक्त करता है, और अरबों का मुनाफ़ा कमाता है.

हर तरह की राजनितिक पद्दतियों और सहज, सरल सदभाव को बुरी तरह से प्रभावित कर डेमोगोग और उसके डिजिटल क्लोन बनाता है. कैडर प्रथा को बुरी तरह से तहस नहस कर, आम जनता से आने वाली प्रतिक्रिया, जवाबदेही, चेक और बैलेंस को ख़तम करता है.

फेसबुक ना सिर्फ इन सब भ्रष्ट कार्य कलापों को प्रोत्साहित करता है, बल्कि अगर ध्यान से इसके गए वर्षों में काम करने के तरीकों को देखें तो यह जान बूझ कर इस तरह के कार्यों को बढ़ावा दे कर लाभ कमाने के उद्देश्य से बनाया गया प्रतीत होता है.


समाज के सहज-व्यवहार में गिरावट, टूटता हुआ अध्यात्मिक मूल.

फेसबुक एक खेल की तरह शुरू हुआ था, जिसमे एक दुसरे के जीवन में तांका झांकी के मुफ़्त अवसर आम जन को एक बड़े मार्केटिंग के प्रयास के तहत दिए गए थे. तब से ही आम जन में narcissism यानि स्वयं-पूजा और अहंकार में वृद्धि की कई रिसर्च रिपोर्ट्स सामने आयी हैं.

इसमें बने मनोवैज्ञानिक चक्रव्यूह, प्रभाव जमा कुछ बेच देने की प्रक्रिया ने, व्यक्तियों में व्यापक तौर पर खुद का एक दिखावटी और बड़े से बड़ा स्वरूप में दिखाने की आदत डाली है. हर समय ख़ुद का प्रमोशन करना, अहंकार पूर्ण हिंसक व्यवहार तो बढ़ा ही है, डिप्रेसन या अवसाद के आंकड़ें भी बढे हैं.

पैसा खर्च कर के स्वयं प्रभुता को सत्यापित करते लाइक्स या फॉलो बटोर, मेहेंगी कैंपेन चला कर भोली जनता को मूर्ख बनाने की प्रक्रिया भी काफ़ी बढ़ी है.


इन्टरनेट तकनीक के नियमों का हनन

फेसबुक की बंद-बगिया तकनीक इन्टरनेट पर एक लोहे के बड़े से बंद बक्से की तरह है, जिसमे ये सुनिश्चित किया गया है की अन्दर मिली भगत से होता भोली जनता के साथ भ्रस्टाचार, और अत्याचार के किस्से बाहर ना आ सके, और बड़ी ही सफाई के साथ सबूत भी मिटाए जा सकें.

सरकारों और सभ्य समाज के लिए किसी भी तरह के नियंत्रण के प्रयास बड़े ही मुश्किल और फेसबुक के ही रहमो करम पर आधारित हैं. देश विदेश की सीमाएं, इसको और भी मुश्किल करती हैं.

प्रजातान्त्रिक सत्ता द्वारा अपनी संरक्षित जनता को फेसबुक के हाथों हार जाना.

फेसबुक को अपनी सीमा में पांव ज़माने देने से स्थानीय सरकारों को नियम और नैतिक सत्ता के साथ समाज को चलाना बड़ा ही कठिन हुआ है. फेसबुक और व्हात्सप्प द्वारा संभव करा दिए गए दंगे, भीड़ द्वारा हत्याएं, अफ़वाहें, ग़लत खबरें का गरम बाज़ार लगातार प्रजातान्त्रिक शासन को बुरी तरह से प्रभावित कर रहा है. अमेरिका, श्री लंका, भारत इत्यादि के उदाहरण लें तो जिस तरह अज्ञात एजेंसिओं ने प्रजातान्त्रिक संस्थाओं को बिना किसी दया के दबाया है, और जिस तरह जनता के प्रतिनिधि अक्षम, निर्बल, और सीधे फेसबुक पर रक्षा के लिए आश्रित नज़र आते हैं, यह बताता है किस तरह सरकारें अपनी जनता को फेसबुक से हार चुकी है, और आज अपने अस्तित्व की रक्षा के लिए दीनता के साथ फेसबुक के सामने करबद्ध खड़ी हैं.

पुराने उपनिवेशवाद की शुरुवात का शंखनाद.

ब्रिटिश शासन के 173 सालों में भारत ने ना सिर्फ अपनी गौरवशाली सभ्यता को खो एक पथ-भ्रमित मानसिकता को ग्रहण किया, बल्कि बल पूर्वक अपने मानव और प्रकृति के धन को भी, जो की आज एक अनुमान के अनुसार 43 ट्रिलियन डॉलर हैं, खो दिया.

अपमानित, विपन्न, खिन्नता से भरा, तीन टुकड़ों में टूटा हुआ देश और आपस में लड़ते और अस्तित्व के लिए जूझते हुए आज भारत बड़ी मुश्किलों से अपने पैरों पर खड़ा हो, दुनिया में अपनी सही जगह की तरफ़ बढ़ रहा है. एक समय दुनिया का अध्यात्मिक बल रहा भारत, एक सतत समाज की ओर कठिनाई के साथ अपने कदम बढ़ा रहा है.

मगर आज जिस तरह भारत की संप्रभुता और निजता पर आघात हो रहे हैं, भारत के आम और खास जन का निजी डाटा, चाहे वो नेता हों या अभिनेता, या अध्यात्मिक गुरु, प्रचारक इत्यादि बड़े ही महीन रूप में देश के बाहर जा चुका है. इसमें काफी समानांतर है - उस ब्रिटिश राज के समय से जब भारत के प्रिंसली एस्टेट के राजाओं का निजी व्यवहार, शयन कक्ष की खबरें अंग्रेजों द्वारा इनको काबू में रखने के लिए इस्तेमाल की जाती थी.

अगर भारत पर हो रहे इस नव-उपनिवेशवाद के तरीकों को सैन्य तकनीक में हो रही लगातार नयी नयी प्रगति के साथ जोड़ें, जैसे अंतरिक्ष कार्यक्रम, ड्रोन, नियंत्रित सर्जिकल मिसाइल इत्यादि तो किसी भी रणनीतिज्ञ को इसका अंदाज़ा लगाना बड़ा आसान है की किस तरह भारत एक झटके में अपने पुराने स्याह-युग में वापस लौट सकता है.

अर्थव्यवस्था का नुकसान, और उपनिवेशवादी महाकाय शक्तियों का उदय.

अमेरिका के सिलिकॉन वैली से निकली ये तकनीकें अपनी जड़ें विदेशी एजेंसिओं द्वारा जासूसी के उन्नत तरीक़ों में रखती हैं. आम जनता को मुफ्त में दी जा रही ये सुविधाएँ बड़ी मेहेंगी हैं और आम जनता में इसको स्वीकृत करवाने के लिए काफी बड़े मेहेंगे अभियानों द्वारा ज़मीन पर उतारी गयी हैं. इन्होने अपने किसी भी प्रतिद्वंदी संस्था को या तो रौंद डाला है या ख़रीद लिया है.

मुफ़्त में दी जा रही ये सुविधाएँ स्थानीय सरकारों के लिए एक बड़ा आयकर का नुकसान हैं. अगर फेसबुक को ही देखें तो अगर 295 मिलियन उपभोक्ता अगर सिर्फ 100 डॉलर साल का भी देते तो कमाई 29.5 बिलियन डॉलर की होती, जिसपर GST का 18% लगा दें तो 5.3 बिलियन डॉलर का टैक्स रेवेन्यु. ये सारा सरकारी घाटा किसी न किसी रूप में सीधे फेसबुक के खज़ाने में ही जा रहा है. और यही वो पैसा है जिसका दंभ भर के जुखरबर्ग साहब भारत के चुनाव सही तरीक़े से करवा देने का दावा करते हैं.

भारत के अपने स्थानीय उद्यम और तकनीकी रीढ़ का हनन

जहाँ सरकारें खरबों का घाटा उठा रही हैं, एक भारतीय तकनिकी क्षेत्र से जुड़े उद्यमी के लिए एक इमानदार कारोबार करना और अपने समाज को स्थानीय तकनीकी सुविधा एक सही मूल्य पर प्रदान करना बड़ा मुश्किल हो गया है. आम जन के मन में तकनीक यानि मुफ़्त का भाव आ गया है.

भारत के इंजिनियर और उद्यमी बड़े से बड़ा तकनीकी सिस्टम बनाने में सक्षम हैं, मगर सिलिकॉन वैली से निकली प्रत्यारोपित सर्वभक्षक तकनीक हमारे स्वतन्त्र कारोबार को जमने ही नहीं देती.

भारतीय इंजिनियर और उद्यमियों को फेसबुक और सिलिकॉन वैली की जन-भक्षक तकनीक और सोच का साथ देना पड़ता है, अपने ही लोगों को ख़तरे में डाल विदेशी खज़ाना भरने की प्रक्रिया में शामिल होना पड़ता है.

फेसबुक इत्यादि को अपने देश में काम करने देने से भारत ना सिर्फ अपने इंजिनियर खो रहा है, बल्कि अपना खुद का शक्तिशाली तकनीकी रीढ़ बनाने का मौका भी पूरी तरह गवां दे रहा है.

आज हमें सोचना है, जब हम डिजिटल तकनीक देश के हर कोने में पहुंचा कर लोगों को इसकी आदत डलवा रहे हैं, क्या हमारी डिजिटल तकनीक की चाभी विदेसी एजेंसिओं के पास है?


तकनीक जो की सिर्फ अमीर प्रत्याशी की मदद के लिए और चुनावो पर कब्ज़ा कर लेने के लिए ही बनी है.

फेसबुक 2008 से ही बड़े पैसे वाले उम्मीदवारों के साथ मिल कर काम कर रहा है, और इसे स्टैण्डर्ड प्रैक्टिस का नाम देता रहा है. अरबों मासूम लोगों को अपने मनोवैज्ञानिक चक्रव्यूहों में बाँध उनकी सारी सूचना बड़े फंडेड राजनीतिज्ञों को सीधे और अपने कैंब्रिज अनालीतिका जैसे सहभागियों के साथ मिल कर बेच रहा है.

अभी हाल फ़िलहाल के ब्रिटिश संसद में उठे सवालों को देखें तो पता चलता है किस तरह फेसबुक ने अपने कुछ चुनिन्दा साथियों के लिए अलग से कॉन्ट्रैक्ट बना कर उनको लोगों की सूचना चुनाव या मोनोपोली बना कर मार्किट कब्ज़ाने के लिए बेचीं है.

ट्रम्प जी के चुनाव अधिकारिओं की मानें तो जिस तरह दिन में 50,000 से 60,000 विज्ञापन के अलग अलग स्वरूप, टारगेट के अनुसार लोगों को दिखाए गए, और उसमे फेसबुक के तकनीकी स्टाफ की सीधी साझेदारी थी एक बड़े ही ख़तरनाक घालमेल की और इशारा करता है.

ऐसा ही तरीका रूसी IRA (Internet Research Agency) द्वारा अमेरिकी चुनाव में करोड़ो लोगों को टारगेट करने के लिए किया गया था.

यह सब सिर्फ फेसबुक के राजनितिक प्रोपगंडा के मूल में होने और उसके लालच को सत्यापित ही करता है.


ख़तम होती पत्रकारिता, टूटता सूचना तंत्र और प्रेस.

फेसबुक ने पत्रकारों को पीढ़ियों को पथ भ्रष्ट किया है, आज जब पत्रकार अपनी local बीट पर होने की जगह भांति भांति के क्लिक-बेट बना रहे हैं, जिसका समाज के लिए सिर्फ समय की बर्बादी और भ्रम फ़ैलाने के अलावा कोई उपयोग नहीं है, तब वो अपनी समाज की एक धुरी जिसकी भूमिका प्रसाशन के सामने चेक और बैलेंस की है को छोड़ रहा है.

फेसबुक किसी भी अख़बार से विज्ञापन के लिए सीधे प्रतिस्पर्धा करता है, जिससे अच्छे भले अख़बारों का काम करने का तरीका ही बदल गया है.

छोटे अख़बार या तो बंद हो रहे हैं, या फिर ‘येल्लो जर्नलिज्म” की दिशा में जा रहे हैं, टेबलायड बनते जा रहे हैं.

आज के अख़बार और पत्रकार अपनी स्वतंत्रता खो, अपने मूल स्वभाव में एक बड़ी गिरावट ला रहे हैं. जिससे मीडिया में फेसबुक और इस जैसी विदेशी संस्थाओं का भ्रष्ट प्रभाव दिखता है.


छोटे उद्योग धंदे बंदी की और, भारतीय आजीविका के श्रोतों का हास

छोटे स्थानीय उद्योग धन्दों को अपने ग्राहकों से जुड़ने के लिए फेसबुक जैसी संस्थाओं को कोई आवश्यकता नहीं है. फेसबुक बाज़ार में एक बलपूर्वक प्रत्यारोपित, उपनिवेशवादी सोच का उपक्रम है जिसने भारतीय अर्थव्यवस्था और स्थानीय आजीविका के लिए बड़ा ख़तरा उत्पन्न किया है.

एक छोटा स्थानीय व्यापार बड़े अंतरराष्ट्रीय व्यापार द्वारा हज़म कर लिया जाता है, फेसबुक ना सिर्फ छोटे व्यापारी के ग्राहक सीधे बड़े अंतर्राष्ट्रीय और फेसबुक के सिस्टम से जुड़े व्यापारिओं को बेच देता है, ग्राहकों को ऐसे बड़े बड़े विज्ञापन एजेसिओं के जाल में फंसा देता है, जिससे वो फिर बाहर निकल नहीं पाता.

आज जहाँ फेसबुक हिंदुस्तान और विश्व की प्रजातान्त्रिक व्यवस्थाओं को नष्ट भ्रष्ट कर रहा है, इसकी भौतिक सफलता का एक ही राज़ है, आम जन की इंसानी कमजोरियों को शोषण कर पाना, जिनके बारे में हर अध्यात्मिक या धर्म की किताब ने आगाह और शोषण विर्जित किया है.

फेसबुक और इस जैसे विदेशी उपनिवेशवादी तकनीकी प्रत्यारोपण बड़े ही मज़बूत हैं, और इनकी जड़ें गहरी हैं. इनको हमारी ज़मीन से उखाड़ फेंकने का सिर्फ एक ही तरीका है. आम जन का सत्य-आग्रह.

आम जन को बोलना होगा - अब बहुत हो गया, फेसबुक, मुझे तो अब माफ़ ही करो.


इ-सत्याग्रह कैसे करें?

आपके भविष्य की कीमत आंकी जा चुकी है और इन्वेस्टमेंट हो चुके हैं, और सब तैयार हैं, और सवाल सबके सामने एक ही है की 2019 के चुनावों में किसे वोट करें.

मगर जहाँ आप अगले पांच साल के लिए अपने सार्वजनिक जीवन को चलाने के लिए एक नेता चुनने जा रहे हैं, अपने कम से कम पांच दिन इस सवाल का जवाब पाने के लिए भी लगाएं की क्या आपका वोट सही जानकारी पर आधारित है.

इसके लिए आपको एक व्रत लेना होगा, जिसके दस नियम हैं और अवधि एक महीना. सफलता पूर्वक अगर हर नागरिक इसे करे तो भारत संभल पाएगा, नहीं तो आने वाला समय बुरा है. आगामी चुनाव के एक महिना पहले से

1.       गूगल फेसबुक ट्विटर व्हात्सप्प का पूरी तरह से त्याग कर दें.

2.       टेलीविज़न, रेडियो पर सिर्फ पुराने गीत सुनें, किसी भी स्टार एंकर को गलती से भी ना सुनें. चौबीस घंटे न्यूज़ चैनल का पूरी तरह परित्याग करें, अख़बार बंद कर दें, सिर्फ दिन में एक बार खबरें सुनें, या ये                ज़िम्मेदारी घर के किसी बड़े को दे दें.

3.       सिनेमा पूरी तरह छोड़ें, सिर्फ 90 से पहले का ही सिनेमा देखें.

4.       छोटे बड़े किसी भी नेता की रैली या रैला में कतई ना जाएँ.


ऊपर दिए कार्य आप रोज़मर्रा के कर्म करते हुए आप कर सकते हैं अब चार चीज़ें जो अपने करनी हैं.


1.       चुनाव आयोग से अपने इलाके के उम्मीदवारों की लिस्ट निकलवा लें. अपने इलाक़े में किसी नौजवान को ये ज़िम्मेदारी दें और वो ये लिस्ट सबको ला के दे या किसी सार्वजानिक जगह पर लगा दे.

2.       बाइक रैली, शोर शराबा, शक्ति प्रदर्शन करते नेता को सीधे लिस्ट से काट दें.

3.       उस व्यक्ति को देखें जो इलाके में कमसे कम पांच साल से एक्टिव हो.

4.       उस व्यक्ति को देखें जो सुलभ हो, ऑफिस जा कर या फ़ोन कर के देखें की आप बात कर सकते हैं की नहीं, क्या व्यवस्था है. क्या वह आपके समय की कीमत पहचानता है.

5.       और कुछ सवाल पूछें.  उनके बारे में ? राजनीती में आने का कारण? क्षेत्र की पञ्च मुख्या समस्याएँ? देश की ५ मुख्य समस्याएँ? इस वश्विक परिदृश्य में भारत के लिए उनकी योज़ना.

6.       अब अपने बंधू बांधवों, रिश्तेदारों के साथ बैठ कर अपने देश के भविष्य के लिए इन उम्मीदवारों के बारे में आमने सामने बात करें और सही निर्णय खुद लें.

इन दस नियमों का पालन करने के बाद ही वोट करें.



महत्वपूर्ण नोट - यह रिसर्च कैंपेन इस समय आम जन, एवं सम्बद्ध वैज्ञानिक वर्ग के प्रीव्यू स्टेज में है, और जानकारी यहाँ लगातार जोड़ी और अपडेट की जा रही है, इस विषय पर अपने विचार भेजने के लिए नीचे दिए कांटेक्ट फॉर्म का प्रयोग करें. जुड़ें रहें, हम इसे जल्द ही लांच करेंगे. 

Related Articles

Related Articles

Related Articles

More

Some Suggested Posters and Images you can use to let others know of the resolve.

Videos and Documentary

Videos for background on this.

Contact Us

We are working, building this movement in the trenches, want to know more or join us? Leave a note.